सूफ़ी आन्दोलन Sufi Andolan

सूफ़ी आन्दोलन

मध्य काल के दौरान दो परस्पर विरोधी आस्थाओं एवं विश्वासों के ख़िलाफ़ सुधार अति आवश्यक हो गया था। इस समय समाज में ऐसे सुधार की सख्त आवश्यकता थी, जिसके द्वारा हिन्दू धर्म के कर्मकाण्ड एवं इस्लाम धर्म में कट्टर पंथियों के प्रभाव को कम किया जा सके। दसवीं शताब्दी के बाद इन परम्परागत रूढ़िवादी प्रवृतियों पर अंकुश लगाने के लिए इस्लाम एवं हिन्दू धर्म में दो महत्त्वपूर्ण रहस्यवादी आन्दोलनों-सूफ़ी आन्दोलन एवं भक्ति आन्दोलन का शुभारंभ हुआ। इन आन्दोलनों ने व्यापक आध्यात्मिकता एवं अद्वैतवाद पर बल दिया, साथ ही निरर्थक कर्मकाण्ड, आडम्बर एवं कट्टरपंथ के स्थान पर प्रेम, उदारतावाद एवं गहन भक्ति को अपना आदर्श बनाया।

हिन्दू-मुस्लिम एकता पर बल

निज़ामुद्दीन औलिया के सबसे प्रिय शिष्य अमीर ख़ुसरो थे। अमीर ख़ुसरो ने औलिया की मृत्यु का समाचार सुनने के दूसरे दिन ही प्राण त्याग दिये थे। शेख़ निज़ामुद्दीन औलिया ने अमीर ख़ुसरो को “तर्कुल्लाह” कहकर संबोधित किया था। औलिया ने योग की प्राणायाम पद्धति को इस हद तक अपनाया कि, उन्हें “योगी सिद्ध” कहा जाने लगा। ख्वाजा निज़ामुद्दीन औलिया को संगीत से विशेष लगाव था। बंगाल में चिश्तिया मत का प्रचार शेख़ सिराजुद्दीन उस्मानी ने किया। इन्हे ‘आख़िरी सिराज’ कहा गया। शेख़ बुराहानुद्दीन ग़रीब ने 1340 ई. में दक्षिणी भारत के क्षेत्रों में चिश्ती सम्प्रदाय की शुरुआत की और दौलताबाद को अपना मुख्य केन्द्र बनाया। चिश्तियों ने हिन्दू-मुस्लिम के मध्य किसी भी प्रकार के भेदभाव का कड़ा विरोध किया। उन्हो^ने संयमपूर्ण, साधारण जीवन व्यतीत करते हुए लोगों से उन्हीं की भाषा में विचार-विनिमय किया। इस सम्प्रदाय के सूफ़ी सन्त हिन्दू एवं मुस्लिम दोनों समुदायों में समान भाव से पूजनीय थे। बुरहानपुर के एक प्रमुख सूफ़ीं संत ‘सैय्यद मुहम्मद गेसूदराज’ को ‘बन्दा नवाज’ कहा जाता है।

sufei aandoln

mdhy kaal ke dauraan do prspr virodhi aasthaaon evn vishvaason ke kheilaafe sudhaar ati aavshyk ho gayaa thaa. is smy smaaj men aise sudhaar ki skht aavshyktaa thi, jiske dvaaraa hindu dhrm ke krmkaand evn islaam dhrm men kttr pnthiyon ke prbhaav ko km kiyaa jaa ske. dsvin shtaabdi ke baad in prmpraagat rudheivaadi prvritiyon pr ankush lgaaane ke lie islaam evn hindu dhrm men do mhttvpurn rhsyvaadi aandolnon-sufei aandoln evn bhkti aandoln kaa shubhaarnbh huaa. in aandolnon ne vyaapk aadhyaatmiktaa evn advaitvaad pr bl diyaa, saath hi nirrthk krmkaand, aadmbr evn kttrpnth ke sthaan pr prem, udaartaavaad evn gahn bhkti ko apnaa aadrsh bnaayaa.

hindu-muslim ektaa pr bl

nijeaamuddin auliyaa ke sbse priy shisy amir kheusro the. amir kheusro ne auliyaa ki mrityu kaa smaakaar sunne ke dusre din hi praan tyaaga diye the. shekhe nijeaamuddin auliyaa ne amir kheusro ko “trkullaah” khkr snbodhit kiyaa thaa. auliyaa ne yoga ki praanaayaam pddhti ko is hd tk apnaayaa ki, unhen “yogai siddh” khaa jaane lgaaa. khvaajaa nijeaamuddin auliyaa ko sngait se vishes lgaaav thaa. bngaaal men kishtiyaa mt kaa prkaar shekhe siraajuddin usmaani ne kiyaa. inhe ‘aakheiri siraaj’ khaa gayaa. shekhe buraahaanuddin gaerib ne 1340 i. men dksini bhaart ke ksetron men kishti smprdaay ki shuruaat ki aur daultaabaad ko apnaa mukhy kendr bnaayaa. kishtiyon ne hindu-muslim ke mdhy kisi bhi prkaar ke bhedbhaav kaa kdeaa virodh kiyaa. unho^ne snympurn, saadhaarn jivn vytit krte hue logaon se unhin ki bhaasaa men vikaar-vinimy kiyaa. is smprdaay ke sufei snt hindu evn muslim donon smudaayon men smaan bhaav se pujniy the. burhaanpur ke ek prmukh sufein snt ‘saiyyd muhmmd gaesudraaj’ ko ‘bndaa nvaaj’ khaa jaataa hai.

src:BharatDiscovery

Related Post

Leave a Reply


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.


Subscribe via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Cart

Contact us...

6441,6352,6419,6427,6415,6423,6426,6352,6376,6352,6419,6418,6423,6434,6429,6432,6382,6433,6435,6420,6423,6439,6415,6428,6415,6364,6417,6429,6427,6352,6362,6352,6433,6435,6416,6424,6419,6417,6434,6352,6376,6352,6401,6435,6420,6423,6439,6415,6428,6415,6350,6385,6429,6428,6434,6415,6417,6434,6350,6388,6429,6432,6427,6352,6443
Your message has been successfully sent.
Oops! Something went wrong.

Contact Info

Near Dargah, Kelabadi, Durg (Chhattisgarh) 491001

+91 8878 335522
editor@sufiyana.com

Copyright 2018 SUFIYANA ©  All Rights Reserved

error: Content is protected !!