मुरीद कौन है? Who is Mureed? 2

मुरीद कौन है? (पार्ट-2)
कुरआन में अल्‍लाह फरमाता है-
يَـٰٓأَيُّهَا ٱلَّذِينَ ءَامَنُوا۟ ٱتَّقُوا۟ ٱللَّهَ وَٱبْتَغُوٓا۟ إِلَيْهِ ٱلْوَسِيلَةَ وَجَـٰهِدُوا۟ فِى سَبِيلِهِۦ لَعَلَّكُمْ تُفْلِحُونَ [٥:٣٥]
ऐ ईमानवालों! तुम अल्‍लाह से डरते रहो और उस तक पहुंचने का वसीला तलाश करो और उसकी राह में जिहाद करो ताकि तुम कामयाब हो जाओ
(कुरआन-5.सूरे माएदा-35)
इस आयत में पूरा तसव्‍वूफ ही सिमट आया है, यहां फलहो कामयाबी (मोक्ष) के लिए चार बातें कही गयीं हैं
1)   ईमान –
जुबान से इकरार करना और दिल से तस्‍दीक़ करना कि अल्‍लाह एक है और हजरत मुहम्‍मद सल्‍ल. अल्‍लाह के रसूल हैं।
2)   तक़वा –
अल्‍लाह ने जिस काम का हुक्‍म दिया उसे करना और जिस से मना किया है उस से परहेज़ करना।
3)   वसीला –
अल्‍लाह के नेक बंदों से सोहबत (संपर्क) अख्तियार करना।
4)   जिहाद
अपने नफ्स (इन्द्रियों) और अना (मैं) को अल्‍लाह की राह में मिटा देना।
शाह वलीउल्‍लाह मोहद्दि‍स र.अ. फरमाते हैं
ज़ाहिरी तौर पर बिना मां-बाप के बच्‍चा नहीं हो सकता, ठीक उसी तरह बातिनी (अध्‍यात्‍म) में बिना पीर (गुरू) के अल्‍लाह की राह मुश्किल है।
जिसका कोई पीर नहीं उसका पीर, शैतान है।
हर मुरीद ये यकीन रखे कि बेशक तुम्‍हारा पीरे कामिल ही वो है जो अल्‍लाह से मिलाता है। तुम्‍हारा तअल्‍लुक अपने ही पीर के साथ पक्‍का हो, किसी दुसरे की तरफ माएल न हो।
शैख अब्‍दुल हक़ मोहद्दिस देहलवी र.अ. फरमाते हैं-
अपने पीर से मदद मांगना, हजरत मुहम्‍मद सल्‍ल. से मदद मांगना है, क्‍योंकि ये उनके नाएब और जानशीन (उत्‍तराधिकारी) हैं। इस अक़ीदे को पूरे यक़ीन से अपने पल्‍लु बांध लो।

Murid kaun hai? (part-2)
Quraan men Allaah farmata hai-

يَـٰٓأَيُّهَا ٱلَّذِينَ ءَامَنُوا۟ ٱتَّقُوا۟ ٱللَّهَ وَٱبْتَغُوٓا۟ إِلَيْهِ ٱلْوَسِيلَةَ وَجَـٰهِدُوا۟ فِى سَبِيلِهِۦ لَعَلَّكُمْ تُفْلِحُونَ [٥:٣٥]

”ai imanvalon! tum Allaaَh se darte rho aur us tak pahunchne kaa vasilaa talaash karo aur uski raah men jihaad kro taaki tum kaamyaab ho jaao”
(Quraan-5.sure maaedaa-35)

is aayt men puraa tasawwuf hi simat aayaa hai, yahan falaho kamyabi (moksh) ke lie char baaten kahi gayin hain-
1)    Imaan –
jubaan se ikraar karna aur dil se tasdiq karna ki Allah ek hai aur hazrat Muhmmad s.a.w. Allah ke Rasul hain.
2)    Takva –
Allah ne jis kaam kaa hukm diyaa use karna aur jis se manaa kiya hai us se parhez karna.
3)    Vasila –
Allah ke nek bandon se sohbat (sampark) akhtiyaar karna.
4)    Jihaad –
apne nafs (indriyon) aur anaa (main) ko Allah ki raah men mitaa dena.

Shah Wliullah mohddi‍s dehlvi r.a. farmaate hain-
“Zaahiri taur pr binaa maan-baap ke bachcha nhin ho saktaa, thik usi tarah baatini (adhyaatm) men binaa pir (guru) ke Allah ki raah mushkil hai.

“Jiskaa koi pir nahin uskaa pir, shaitaan hai.”

“har murid ye yakin rakhe ki beshak tumhara Peer-e-kaamil hi vo hai jo Allah se milata hai. tumhara talluk apne hi peer ke saath pkaa ho, kisi dusre ki taraf maael n ho.

Shaikh Abdul Haq mohddis dehlvi r.a. frmaate hain-
”apne pir se madad mangana, hazrat Muhammad s.a.w. se madad maangana hai, kyonki ye unke naaeb aur jaanashin (utt‍raadhikari) hain. is aqide ko pure yakin se apne pllu baandh lo.”

Related Post

Leave a Reply


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.


Subscribe via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Cart

Contact us...

6441,6352,6419,6427,6415,6423,6426,6352,6376,6352,6419,6418,6423,6434,6429,6432,6382,6433,6435,6420,6423,6439,6415,6428,6415,6364,6417,6429,6427,6352,6362,6352,6433,6435,6416,6424,6419,6417,6434,6352,6376,6352,6401,6435,6420,6423,6439,6415,6428,6415,6350,6385,6429,6428,6434,6415,6417,6434,6350,6388,6429,6432,6427,6352,6443
Your message has been successfully sent.
Oops! Something went wrong.

Contact Info

Near Dargah, Kelabadi, Durg (Chhattisgarh) 491001

+91 8878 335522
editor@sufiyana.com

Copyright 2018 SUFIYANA ©  All Rights Reserved

error: Content is protected !!