गोदड़ी ओड़ने वाले मुख्लिस बंदे

सूफीयों की जिंदगी हिदायत का सरचश्‍म होती है। इन गोदड़ी ओड़ने वाले मुख्लिस बंदों को पहचानना हर किसी के बस की बात नहीं। एक मशहूर क़ौल है  कि ”वली को वली ही पहचानता है।
 
अल्‍लाह तअला ने कुरआन में फरमाया- أَلَا إِنَّ أَوْلِيَاءَ اللَّهِ لَا خَوْفٌ عَلَيْهِمْ وَلَا هُمْ يَحْزَنُونَ [١٠:٦٢]
सुन लो, अल्लाह के मित्रों को न तो कोई डर है और न वे शोकाकुल ही होंगे
 
हज़रत जुन्‍नून मिस्री (र.अ.) फरमाते हैं- 
सूफ़ी वो कि जब बोले तो उसके ज़बान से हक़ (सच्‍ची बात, अल्‍लाह का जिक्र) ज़ारी हो और जब खामोश हो तो उसके जिस्‍म का एक एक रोंगटा ये शहादत दे कि उसके अन्‍दर दुनिया की कोई हवस मौजूद नहीं।
 
हज़रत हुसैन बिन मन्‍सूर (र.अ.) फरमाते हैं- 
सूफ़ी की ज़ात यकता (अकेली) होती है- न अल्‍लाह के सिवा उसे कोई कुबूल करता है और न ही वो अल्‍लाह के सिवा किसी को कुबूल करता है।
 
हज़रत अबू-हमजा बगदादी (र.अ.) फरमाते हैं- 
सच्‍चे सूफ़ी की ये पहचान है मालदार होने के बावजूद वो फकीर रहे और इज्‍जतदार होने के बावजूद हक़ीर रहे (खुद को छोटा समझे)।
 
हज़रत जुनैद बगदादी (र.अ.) फरमाते हैं- 
सूफ़ी की मिसाल ज़मीन जैसी है कि हर मरी चीज़ इसमें फेंकी जाती है लेकिन इसमें से बहुत खुबसूरत चीज़ निकलती है।
 
हज़रत शरफुद्दीन यहया मुनीरी (र.अ.) फरमाते हैं- 
सूफ़ी वो है जो अल्‍लाह के 99 सिफात से हक़ीक़तन मौसूफ़ हो।
 
हज़रत अबू-तुराब नख़शबी (र.अ.) फरमाते हैं- 
सूफ़ी के दिल को कोई चीज मैला नहीं कर सकती मगर उससे हर चीज को सफाई हासिल होती है।
 
हज़रत नूरी (र.अ.) फरमाते हैं- 
सूफ़ी की तारीफ ये है कि उसे मोहजाती (गरीबी) के वक्‍त सुकून हो और अगर कुछ पास आए तो किसी को दे दे।
 

हज़रत अबुबक्र सिद्दीक़ (रजि.अ.) इस्‍लाम के पहले खलिफा है। आप मक्‍का के सबसे मालदार (धनवान) लोगों में से थे। एक मौके पर आपने अपना सारा माल हज़रत मुहम्‍मद (सल्‍ल.) के कदमों पर रख दिया। हज़रत मुहम्‍मद (सल्‍ल.) ने कहा क्‍या कुछ अपने परिवारवालों के लिए भी छोड़ा? तो आपने फरमाया – ”(उनके लिए) अल्‍लाह और उसका रसूल है।”
ये जुमला (वक्‍तव्‍य) एक सूफ़ी की ज़बान से ही निकल सकता है।

इसी पर डॉक्‍टर अल्‍लामा ईक़बाल ने कहा है- 
परवाने को चिराग तो बुलबुल को फूल बस। 
सिद्दीक के लिए खुदा और रसूल बस।।

Sūphīyōṁ kī jindagī hidāyata kā saracaśma hōtī hai. Ina gōdaṛī ōṛanē vālē mukhlisa bandōṁ kō pahacānanā hara kisī kē basa kī bāta nahīṁ. Ēka maśahūra qaula hai ki”valī kō valī hī pahacānatā hai.” Allāha ta’alā nē kura’āna mēṁ pharamāyā- ạảlā ại̹nã ạảẘlīāʾa ạllãhi lā kẖaẘfuⁿ ʿalaẙhim̊ walā hum̊ yaḥ̊zanūna [10:62] Suna lō, allāha kē mitrōṁ kō na tō kō’ī ḍara hai aura na vē śōkākula hī hōṅgē Hazarata junnūna misrī (ra.A.) Pharamātē haiṁ- ”Sūfī vō ki jaba bōlē tō usakē zabāna sē haqa (saccī bāta, allāha kā jikra) zārī hō aura jaba khāmōśa hō tō usakē jisma kā ēka ēka rōṅgaṭā yē śahādata dē ki usakē andara duniyā kī kō’ī havasa maujūda nahīṁ.” Hazarata husaina bina mansūra (ra.A.) Pharamātē haiṁ- ”Sūfī kī zāta yakatā (akēlī) hōtī hai- na allāha kē sivā usē kō’ī kubūla karatā hai aura na hī vō allāha kē sivā kisī kō kubūla karatā hai.” Hazarata abū-hamajā bagadādī (ra.A.) Pharamātē haiṁ- ”Saccē sūfī kī yē pahacāna hai māladāra hōnē kē bāvajūda vō phakīra rahē aura ijjatadāra hōnē kē bāvajūda haqīra rahē (khuda kō chōṭā samajhē).” Hazarata junaida bagadādī (ra.A.) Pharamātē haiṁ- ”Sūfī kī misāla zamīna jaisī hai ki hara marī cīza isamēṁ phēṅkī jātī hai lēkina isamēṁ sē bahuta khubasūrata cīza nikalatī hai.” Hazarata śaraphuddīna yahayā munīrī (ra.A.) Pharamātē haiṁ- ”Sūfī vō hai jō allāha kē 99 siphāta sē haqīqatana mausūfa hō.” Hazarata abū-turāba naḵẖaśabī (ra.A.) Pharamātē haiṁ- ”Sūfī kē dila kō kō’ī cīja mailā nahīṁ kara sakatī magara usasē hara cīja kō saphā’ī hāsila hōtī hai.” Hazarata nūrī (ra.A.) Pharamātē haiṁ- ”Sūfī kī tārīpha yē hai ki usē mōhajātī (garībī) kē vakta sukūna hō aura agara kucha pāsa ā’ē tō kisī kō dē dē.” Hazarata abubakra siddīqa (raji.A.) Islāma kē pahalē khaliphā hai. Āpa makkā kē sabasē māladāra (dhanavāna) lōgōṁ mēṁ sē thē. Ēka maukē para āpanē apanā sārā māla hazarata muham’mada (salla.) Kē kadamōṁ para rakha diyā. Hazarata muham’mada (salla.) Nē kahā kyā kucha apanē parivāravālōṁ kē li’ē bhī chōṛā? Tō āpanē pharamāyā – ”(unakē li’ē) allāha aura usakā rasūla hai.” Yē jumalā (vaktavya) ēka sūfī kī zabāna sē hī nikala sakatā hai. Isī para ḍŏkṭara allāmā īqabāla nē kahā hai- Paravānē kō cirāga tō bulabula kō phūla basa. Siddīka kē li’ē khudā aura rasūla basa..

Related Post

Leave a Reply


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.


Subscribe via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Cart

Contact us...

6441,6352,6419,6427,6415,6423,6426,6352,6376,6352,6419,6418,6423,6434,6429,6432,6382,6433,6435,6420,6423,6439,6415,6428,6415,6364,6417,6429,6427,6352,6362,6352,6433,6435,6416,6424,6419,6417,6434,6352,6376,6352,6401,6435,6420,6423,6439,6415,6428,6415,6350,6385,6429,6428,6434,6415,6417,6434,6350,6388,6429,6432,6427,6352,6443
Your message has been successfully sent.
Oops! Something went wrong.

Contact Info

Near Dargah, Kelabadi, Durg (Chhattisgarh) 491001

+91 8878 335522
editor@sufiyana.com

Copyright 2018 SUFIYANA ©  All Rights Reserved

error: Content is protected !!