हुस्न व जमाल

हज़रत हस्सान बिन साबितؓ फ़रमाते हैं.

व अहसनो मिन्का लम तरा क़त्तो ऐनी

व अजमलो मिन्का लम तलेदिन्नेसाओ

ख़ुलेक़त मुबर्रा.अम.मिन कुल्ले ऐबिन

कअन्नका क़द ख़ुलेक़त कमा तशाओ

 

हुजूरﷺ  से हसीनतर

मेरी आंख ने कभी देखा ही नहीं

और न कभी किसी मां ने

आपसे जमीलतर पैदा किया है।

आप की तख़लीक़ बेएैब है,

(ऐसा महसूस होता है कि) जैसे

रब ने आपकी ख़्वाहिश के मुताबिक़

सूरत बनाई है।

 

हज़रत ताहिर उल क़ादरी मद्देजि़ल्लहू फ़रमाते हैं.

हज़रत मूसाؑ खुदा के दीदार की ख्वाहिश रखते हैं और कहते हैं.

ऐ मेरे रब! मुझे (अपना जल्वा) दिखा कि मैं तेरा दीदार कर लूं।

(कुरान 7:143)

 

कभी ऐ हक़ीक़ते मुन्तिज़र! नज़र आ लिबासे मजाज़ में।

कि हज़ारों सजदे तड़प रहे हैं मेरी जिबीने नियाज़ में।

 

फिर क्या हुआ, एक जल्वा दिखा और पहाड़ के टुकड़े टुकड़े हो गए

और हज़रत मूसाؑ बेहोश हो गए।

होश में आकर कहते हैं, तुझसा कोई नहीं।

हरीमे नाज़ से सदा आती है, ऐ हुस्नो जमाल की तलाश करने वाले! तेरी तलाश पूरी हो चुकी है।

 

यूं तो हर तरफ़ रब के ही हुस्न का जल्वा है…

तुम जिधर भी रूख करो उधर ही अल्लाह की तवज्जो है।

(यानी हर सिम्त अल्लाह ही की ज़ात जल्वागर है।)

(कुरान 2:115)

 

लेकिन महबूबﷺ  का हुस्न, सारे ख़ल्क़ में आला है।

और महबूबﷺ  की ज़ाते अक़दस पर रब का हुस्न शबाब पर है।

 

तेरे जमाल से बढ़कर कोई जमाल नहीं।

तु बेमिसाल है तेरी कोई मिसाल नहीं।

 

कहते हैं सूरत दरअस्ल सीरत का आईना होती है।

ज़ाहिरी सूरत देख कर इन्सान के सीरत का बहुत कुछ अंदाज़ा लगाया जा सकता है।

जब हुज़ूरﷺ  की मिसाल सीरत में नहीं मिलती तो फिर हुज़ूरﷺ  की हुस्नो जमाल कैसा होगा?

हुस्ने युसफू, दमे ईसा, यदे बैज़ा दारी।

आंचा खूबां हमा दारंद तु तन्हादारी।

हुज़ूरﷺ  की ज़ात, हुस्नो कमाल की वो शाहकार है, कि

कायनात के सारी खुबसूरती उसके सामने ग़रीब है।

दुनिया की सारी रानाइयां आप ही के दम से है।

हुज़ूरﷺ  के हुस्न के सामने चांद भी फीका है।

और आपके चेहरे में वो ताब व जलाल है कि

सहाबियों की जी भर के देखने की हिम्मत भी नहीं होती।

रब ने आपको वो हुस्नो जमाल अता फ़रमाया है कि अगर उसका ज़हूर एक साथ हो जाए

तो इन्सानी आंख में ताब नहीं कि उन जल्वों को देख सके।

लेकिन रब है कि हुजूरﷺ  को तकता रहता है…

हम तो आपकी तरफ़ से निगाहें हटाते ही नहीं हैं और हम हर वक़्त आप ही को तकते रहते हैं।

(कुरान 52:48)

 

एक सूफ़ी का फ़रमाते है-

अक्सर लोगों ने रब का इरफ़ान तो हासिल कर लिया

लेकिन हुज़ूरﷺ  का इरफ़ान उन्हें हासिल नहीं हो सका,

क्योंकि बशरियत के परदे ने उनकी आंखें ढक दी थीं।

 

हदीस के मुताबिक,

हुज़ूरﷺ  की हक़ीक़त खुदा के अलावा कोई नहीं जानता।

 

खुदा की ग़ैरत ने डाल रखे हैं तुझ पे सत्तर हज़ार परदे।

जहां में लाखों ही तूर बनते जो इक भी उठता हिजाब तेरा।

 

 

 

 

hazarat hassaan bin saabit faramaate hain.

va ahasano minka lam tara qatto ainee

va ajamalo minka lam taledinnesao

khuleqat mubarra.am.min kulle aibin

kaannaka qad khuleqat kama tashao

hujoorashly allh ʿlyh wslm se haseenatar

meree aankh ne kabhee dekha hee nahin

aur na kabhee kisee maan ne

aapase jameelatar paida kiya hai.

aap kee takhaleeq beeaib hai,

(aisa mahasoos hota hai ki) jaise

rab ne aapakee khvaahish ke mutaabiq

soorat banaee hai.

hazarat taahir ul qaadaree maddejillahoo faramaate hain.

hazarat moosa khuda ke deedaar kee khvaahish rakhate hain aur kahate hain.

ai mere rab! mujhe (apana jalva) dikha ki main tera deedaar kar loon.

(kuraan 7:143)

kabhee ai haqeeqate muntizar! nazar aa libaase majaaz mein.

ki hazaaron sajade tadap rahe hain meree jibeene niyaaz mein.

phir kya hua, ek jalva dikha aur pahaad ke tukade tukade ho gae

aur hazarat moosa behosh ho gae.

hosh mein aakar kahate hain, tujhasa koee nahin.

hareeme naaz se sada aatee hai, ai husno jamaal kee talaash karane vaale! teree talaash pooree ho chukee hai.

yoon to har taraf rab ke hee husn ka jalva hai…

tum jidhar bhee rookh karo udhar hee allaah kee tavajjo hai.

(yaanee har simt allaah hee kee zaat jalvaagar hai.)

(kuraan 2:115)

lekin mahaboobashly allh ʿlyh wslm ka husn, saare khalq mein aala hai.

aur mahaboobashly allh ʿlyh wslm kee zaate aqadas par rab ka husn shabaab par hai.

tere jamaal se badhakar koee jamaal nahin.

tu bemisaal hai teree koee misaal nahin.

kahate hain soorat darasl seerat ka aaeena hotee hai.

zaahiree soorat dekh kar insaan ke seerat ka bahut kuchh andaaza lagaaya ja sakata hai.

jab huzoorashly allh ʿlyh wslm kee misaal seerat mein nahin milatee to phir huzoorashly allh ʿlyh wslm kee husno jamaal kaisa hoga?

husne yusaphoo, dame eesa, yade baiza daaree.

aancha khoobaan hama daarand tu tanhaadaaree.

huzoorashly allh ʿlyh wslm kee zaat, husno kamaal kee vo shaahakaar hai, ki

kaayanaat ke saaree khubasooratee usake saamane gareeb hai.

duniya kee saaree raanaiyaan aap hee ke dam se hai.

huzoorashly allh ʿlyh wslm ke husn ke saamane chaand bhee pheeka hai.

aur aapake chehare mein vo taab va jalaal hai ki

sahaabiyon kee jee bhar ke dekhane kee himmat bhee nahin hotee.

rab ne aapako vo husno jamaal ata faramaaya hai ki agar usaka zahoor ek saath ho jae

to insaanee aankh mein taab nahin ki un jalvon ko dekh sake.

lekin rab hai ki hujoorashly allh ʿlyh wslm ko takata rahata hai…

ham to aapakee taraf se nigaahen hataate hee nahin hain aur ham har vaqt aap hee ko takate rahate hain.

(kuraan 52:48)

ek soofee ka faramaate hai-

aksar logon ne rab ka irafaan to haasil kar liya

lekin huzoorashly allh ʿlyh wslm ka irafaan unhen haasil nahin ho saka,

kyonki bashariyat ke parade ne unakee aankhen dhak dee theen.

hadees ke mutaabik,

huzoorashly allh ʿlyh wslm kee haqeeqat khuda ke alaava koee nahin jaanata.

khuda kee gairat ne daal rakhe hain tujh pe sattar hazaar parade.

jahaan mein laakhon hee toor banate jo ik bhee uthata hijaab tera.

Related Post

Leave a Reply


This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.


Subscribe via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Cart

Contact us...

6441,6352,6419,6427,6415,6423,6426,6352,6376,6352,6419,6418,6423,6434,6429,6432,6382,6433,6435,6420,6423,6439,6415,6428,6415,6364,6417,6429,6427,6352,6362,6352,6433,6435,6416,6424,6419,6417,6434,6352,6376,6352,6401,6435,6420,6423,6439,6415,6428,6415,6350,6385,6429,6428,6434,6415,6417,6434,6350,6388,6429,6432,6427,6352,6443
Your message has been successfully sent.
Oops! Something went wrong.

Contact Info

Near Dargah, Kelabadi, Durg (Chhattisgarh) 491001

+91 8878 335522
editor@sufiyana.com

Copyright 2018 SUFIYANA ©  All Rights Reserved

error: Content is protected !!