गोदड़ी ओड़ने वाले मुख्लिस बंदे

सूफीयों की जिंदगी हिदायत का सरचश्‍म होती है। इन गोदड़ी ओड़ने वाले मुख्लिस बंदों को पहचानना हर किसी के बस की बात नहीं। एक मशहूर क़ौल है  कि ”वली को वली ही पहचानता है।
 
अल्‍लाह तअला ने कुरआन में फरमाया- أَلَا إِنَّ أَوْلِيَاءَ اللَّهِ لَا خَوْفٌ عَلَيْهِمْ وَلَا هُمْ يَحْزَنُونَ [١٠:٦٢]
सुन लो, अल्लाह के मित्रों को न तो कोई डर है और न वे शोकाकुल ही होंगे
 
हज़रत जुन्‍नून मिस्री (र.अ.) फरमाते हैं- 
सूफ़ी वो कि जब बोले तो उसके ज़बान से हक़ (सच्‍ची बात, अल्‍लाह का जिक्र) ज़ारी हो और जब खामोश हो तो उसके जिस्‍म का एक एक रोंगटा ये शहादत दे कि उसके अन्‍दर दुनिया की कोई हवस मौजूद नहीं।
 
हज़रत हुसैन बिन मन्‍सूर (र.अ.) फरमाते हैं- 
सूफ़ी की ज़ात यकता (अकेली) होती है- न अल्‍लाह के सिवा उसे कोई कुबूल करता है और न ही वो अल्‍लाह के सिवा किसी को कुबूल करता है।
 
हज़रत अबू-हमजा बगदादी (र.अ.) फरमाते हैं- 
सच्‍चे सूफ़ी की ये पहचान है मालदार होने के बावजूद वो फकीर रहे और इज्‍जतदार होने के बावजूद हक़ीर रहे (खुद को छोटा समझे)।
 
हज़रत जुनैद बगदादी (र.अ.) फरमाते हैं- 
सूफ़ी की मिसाल ज़मीन जैसी है कि हर मरी चीज़ इसमें फेंकी जाती है लेकिन इसमें से बहुत खुबसूरत चीज़ निकलती है।
 
हज़रत शरफुद्दीन यहया मुनीरी (र.अ.) फरमाते हैं- 
सूफ़ी वो है जो अल्‍लाह के 99 सिफात से हक़ीक़तन मौसूफ़ हो।
 
हज़रत अबू-तुराब नख़शबी (र.अ.) फरमाते हैं- 
सूफ़ी के दिल को कोई चीज मैला नहीं कर सकती मगर उससे हर चीज को सफाई हासिल होती है।
 
हज़रत नूरी (र.अ.) फरमाते हैं- 
सूफ़ी की तारीफ ये है कि उसे मोहजाती (गरीबी) के वक्‍त सुकून हो और अगर कुछ पास आए तो किसी को दे दे।
 

हज़रत अबुबक्र सिद्दीक़ (रजि.अ.) इस्‍लाम के पहले खलिफा है। आप मक्‍का के सबसे मालदार (धनवान) लोगों में से थे। एक मौके पर आपने अपना सारा माल हज़रत मुहम्‍मद (सल्‍ल.) के कदमों पर रख दिया। हज़रत मुहम्‍मद (सल्‍ल.) ने कहा क्‍या कुछ अपने परिवारवालों के लिए भी छोड़ा? तो आपने फरमाया – ”(उनके लिए) अल्‍लाह और उसका रसूल है।”
ये जुमला (वक्‍तव्‍य) एक सूफ़ी की ज़बान से ही निकल सकता है।

इसी पर डॉक्‍टर अल्‍लामा ईक़बाल ने कहा है- 
परवाने को चिराग तो बुलबुल को फूल बस। 
सिद्दीक के लिए खुदा और रसूल बस।।

Sūphīyōṁ kī jindagī hidāyata kā saracaśma hōtī hai. Ina gōdaṛī ōṛanē vālē mukhlisa bandōṁ kō pahacānanā hara kisī kē basa kī bāta nahīṁ. Ēka maśahūra qaula hai ki”valī kō valī hī pahacānatā hai.” Allāha ta’alā nē kura’āna mēṁ pharamāyā- ạảlā ại̹nã ạảẘlīāʾa ạllãhi lā kẖaẘfuⁿ ʿalaẙhim̊ walā hum̊ yaḥ̊zanūna [10:62] Suna lō, allāha kē mitrōṁ kō na tō kō’ī ḍara hai aura na vē śōkākula hī hōṅgē Hazarata junnūna misrī (ra.A.) Pharamātē haiṁ- ”Sūfī vō ki jaba bōlē tō usakē zabāna sē haqa (saccī bāta, allāha kā jikra) zārī hō aura jaba khāmōśa hō tō usakē jisma kā ēka ēka rōṅgaṭā yē śahādata dē ki usakē andara duniyā kī kō’ī havasa maujūda nahīṁ.” Hazarata husaina bina mansūra (ra.A.) Pharamātē haiṁ- ”Sūfī kī zāta yakatā (akēlī) hōtī hai- na allāha kē sivā usē kō’ī kubūla karatā hai aura na hī vō allāha kē sivā kisī kō kubūla karatā hai.” Hazarata abū-hamajā bagadādī (ra.A.) Pharamātē haiṁ- ”Saccē sūfī kī yē pahacāna hai māladāra hōnē kē bāvajūda vō phakīra rahē aura ijjatadāra hōnē kē bāvajūda haqīra rahē (khuda kō chōṭā samajhē).” Hazarata junaida bagadādī (ra.A.) Pharamātē haiṁ- ”Sūfī kī misāla zamīna jaisī hai ki hara marī cīza isamēṁ phēṅkī jātī hai lēkina isamēṁ sē bahuta khubasūrata cīza nikalatī hai.” Hazarata śaraphuddīna yahayā munīrī (ra.A.) Pharamātē haiṁ- ”Sūfī vō hai jō allāha kē 99 siphāta sē haqīqatana mausūfa hō.” Hazarata abū-turāba naḵẖaśabī (ra.A.) Pharamātē haiṁ- ”Sūfī kē dila kō kō’ī cīja mailā nahīṁ kara sakatī magara usasē hara cīja kō saphā’ī hāsila hōtī hai.” Hazarata nūrī (ra.A.) Pharamātē haiṁ- ”Sūfī kī tārīpha yē hai ki usē mōhajātī (garībī) kē vakta sukūna hō aura agara kucha pāsa ā’ē tō kisī kō dē dē.” Hazarata abubakra siddīqa (raji.A.) Islāma kē pahalē khaliphā hai. Āpa makkā kē sabasē māladāra (dhanavāna) lōgōṁ mēṁ sē thē. Ēka maukē para āpanē apanā sārā māla hazarata muham’mada (salla.) Kē kadamōṁ para rakha diyā. Hazarata muham’mada (salla.) Nē kahā kyā kucha apanē parivāravālōṁ kē li’ē bhī chōṛā? Tō āpanē pharamāyā – ”(unakē li’ē) allāha aura usakā rasūla hai.” Yē jumalā (vaktavya) ēka sūfī kī zabāna sē hī nikala sakatā hai. Isī para ḍŏkṭara allāmā īqabāla nē kahā hai- Paravānē kō cirāga tō bulabula kō phūla basa. Siddīka kē li’ē khudā aura rasūla basa..

कुरआन में सूफी Sufi in Quran

 

कुरआन में सूफी 

सूफी अल्‍लाह के वो मख्‍सूस बन्‍दे हैं जिन्‍हें अल्‍लाह ने अपनी किताब क़ुरआन शरीफ में अलग अलग नामों से याद फरमाया। जैसे –
o    अस्‍सादेकीन        सच्‍चे
o    अस्‍सादेकात        सच्‍ची औरतें
o    अलकानेतीन       अदबवाले, फरमाबरदार
o    अलकानेतात       अदबवाले, फरमाबरदार औरतें
o    अलखाशेईन        आजीज़ी करने वाले
o    अलमोक़ेनीन       यक़ीन करने वाले
o    अलमुख्‍लेसीन     अख्‍लास के साथ अल्‍लाह की बंदगी करने वाले
o    अलमोहसेनीन     नेकी व एहसान करने वाले
o    अलखाएफीन       अल्‍लाह का खौफ रखने वाले
o    अर्राजीन              उम्‍मीद रखने वाले
o    अलवाजलीन       अल्‍लाह से डरने वाले
o    अलआबेदीन        इबादत करने वाले
o    अस्‍साएमीन        रोज़े रखने वाले
o    अस्‍साबेरीन         सब्र करने वाले
o    अर्राज़ीन             राज़ी ब रज़ा रहने वाले
o    अलऔलिया        अल्‍लाह के वली
o    अलमुत्‍तक़ीन      तक़वा करने वाले
o    अलमुस्‍तफीन      मुन्‍तखब, चुने हुए
o    अलमुजतबीन     मुन्‍तखब किये हुए
o    अलअबरार          नेकी करने वाले
o    अलमुक़रबीन      क़ुर्बवाले
o    मुशाहेदिन           शहादत देने वाला
o    अलमुतमईन       मुतमईन रहने वाला
o    अलमुक़तसेदिन
Sufi in Quran
Sūphī allāha kē vō makhsūsa bandē haiṁ jinhēṁ allāha nē apanī kitāba qura’āna śarīpha mēṁ alaga alaga nāmōṁ sē yāda pharamāyā. Jaisē – 
O as’sādēkīna saccē 
O as’sādēkāta saccī auratēṁ 
O alakānētīna adabavālē, pharamābaradāra 
O alakānētāta adabavālē, pharamābaradāra auratēṁ 
O alakhāśē’īna ājīzī karanē vālē 
O alamōqēnīna yaqīna karanē vālē 
O alamukhlēsīna akhlāsa kē sātha allāha kī bandagī karanē vālē 
O alamōhasēnīna nēkī va ēhasāna karanē vālē 
O alakhā’ēphīna allāha kā khaupha rakhanē vālē 
O arrājīna um’mīda rakhanē vālē 
O alavājalīna allāha sē ḍaranē vālē 
O ala’ābēdīna ibādata karanē vālē 
O as’sā’ēmīna rōzē rakhanē vālē 
O as’sābērīna sabra karanē vālē 
O arrāzīna rāzī ba razā rahanē vālē 
O ala’auliyā allāha kē valī 
O alamuttaqīna taqavā karanē vālē 
O alamustaphīna muntakhaba, cunē hu’ē 
O alamujatabīna muntakhaba kiyē hu’ē 
O ala’abarāra nēkī karanē vālē 
O alamuqarabīna qurbavālē 
O muśāhēdina śahādata dēnē vālā 
O alamutama’īna mutama’īna rahanē vālā 
O alamuqatasēdina

महफिले सिमा Mehfile Sima

महफिले सिमा

हजरत दाता गंज बख्श रहमतुल्लाह अलैह फरमाते हैं-

सूफीयों में से हर एक का महफिले सिमा के मामले में एक खास मकाम व मरतबा है जिसके जरिए महफिले समा से फुयूज़ो बरकात हासिल करते हैं। जैसा कि

• महफिले सिमा, तौबा करने वाले के लिए नदामत है,

• महफिले सिमा, दीदार की ख्वाफहिशमंद के लिए सबबे दीदार है,

• महफिले सिमा, यकीन करने वाले के लिए ता‍कीद है,

• महफिले सिमा, मुरीद के लिए तहकीक का जरीआ है,

• महफिले सिमा, मोहिब्ब के लिए तरके दुनिया का बाएस है,

• महफिले सिमा, फकीर को सिर्फ अल्लाह से लौ लगाती है।

दरअस्लफ महफिले सिमा सूरज की तरह है जो तमाम चीजों पर रौ‍शनी डालता है मगर हर चीज अपनी अपनी समझ और काबिलियत के मुताबिक इससे फायदा लेती है।

सूरज किसी को जला देता है और किसी को जिला (जिन्दा ) कर देता है। किसी को नवाज़ता है तो किसी को भस्म कर देता है।…

Mahaphilē Simā

Hajarata dātā gan̄ja bakhśa rahamatullāha alaiha pharamātē haiṁ-
Sūphīyōṁ mēṁ sē hara ēka kā mahaphilē simā kē māmalē mēṁ ēka khāsa makāma va maratabā hai jisakē jari’ē mahaphilē samā sē phuyūzō barakāta hāsila karatē haiṁ. Jaisā ki

• Mahaphilē simā, taubā karanē vālē kē li’ē nadāmata hai,
• Mahaphilē simā, dīdāra kī khvāphahiśamanda kē li’ē sababē dīdāra hai,
• Mahaphilē simā, yakīna karanē vālē kē li’ē tākīda hai,
• Mahaphilē simā, murīda kē li’ē tahakīka kā jarī’ā hai,
• Mahaphilē simā, mōhibba kē li’ē tarakē duniyā kā bā’ēsa hai,
• Mahaphilē simā, phakīra kō sirpha allāha sē lau lagātī hai.

Dara’aslapha mahaphilē simā sūraja kī taraha hai jō tamāma cījōṁ para rauśanī ḍālatā hai magara hara cīja apanī apanī samajha aura kābiliyata kē mutābika isasē phāyadā lētī hai. Sūraja kisī kō jalā dētā hai aura kisī kō jilā (jindā) kara dētā hai. Kisī kō navāzatā hai tō kisī kō bhasma kara dētā hai….

मौलवी व सुफी Maulvi aur Sufi

मौलवी व सुफी
मौलवी व सुफी के बारे में तफ्सीरे नईमी में मुफ्ती अहमद यार खां नईमी फरमाते हैं-

Maulvi aur Sufi (Tafsir e Naeemi by Mufti Ahmad Yaar Khan Naeemi)


Maulvi aur Sufi (Tafsir e Naeemi by Mufti Ahmad Yaar Khan Naeemi)


Maulvi aur Sufi (Tafsir e Naeemi by Mufti Ahmad Yaar Khan Naeemi)


बेवकूफ इन्‍सान बेवकूफी ही सिखाएगा (शेख सादी)

बेवकूफ इन्‍सान बेवकूफी ही सिखाएगा (शेख सादी)

न गोयद अज सरे बाजीचा हर्फे।

कर्जा पन्‍दे नगीरद साहबे होश।।

व गर सद बाबे हिकमत पेशे नादां।

बख्‍बानन्‍द आयदश बाजीचह दरगोश।।

तर्जुमा- अक्‍लमन्‍द इन्‍सान खेल खेल में भी अच्‍छी तालीम हासिल कर लेता है जबकि बेवकूफ इन्‍सान बड़ी किताबों के सौ अध्‍याय पढ़ने के बाद भी बेवकूफी ही सीखता है।

लुकमान हकीम से किसी ने पूछा आपने अदब और तमीज किससे सीखी?

आपने फरमाया बेअदबों से, मैंने उनकी बूरी आदतों से परहेज किया। अक्‍लमन्‍द इन्‍सान खेल खेल में भी अच्‍छी तालीम हासिल कर लेता है जबकि बेवकूफ इन्‍सान बड़ी किताबों के सौ अध्‍याय पढ़ने के बाद भी बेवकूफी ही सीखता है।

Bēvakūpha insāna bēvakūphī hī sikhā’ēgā (śēkha sādī)
Na gōyada aja sarē bājīcā harphē.
Karjā pandē nagīrada sāhabē hōśa..
Va gara sada bābē hikamata pēśē nādāṁ.
Bakhbānanda āyadaśa bājīcaha daragōśa..

Tarjumā- aklamanda insāna khēla khēla mēṁ bhī acchī tālīma hāsila kara lētā hai jabaki bēvakūpha insāna baṛī kitābōṁ kē sau adhyāya paṛhanē kē bāda bhī bēvakūphī hī sīkhatā hai.

Lukamāna hakīma sē kisī nē pūchā āpanē adaba aura tamīja kisasē sīkhī? Āpanē pharamāyā bē’adabōṁ sē, mainnē unakī būrī ādatōṁ sē parahēja kiyā. Aklamanda insāna khēla khēla mēṁ bhī acchī tālīma hāsila kara lētā hai jabaki bēvakūpha insāna baṛī kitābōṁ kē sau adhyāya paṛhanē kē bāda bhī bēvakūphī hī sīkhatā hai.

सारी दुनिया एक बराबर Saari Duniya Ek Barabar

सारी दुनिया एक बराबर (रूहे तसव्‍वुफ)

ख्‍़वाजा बन्‍दानवाज़ ग़ेसूदराज़ रहमतुल्‍लाह अलैह ने फरमाया-

हजरत जुनैद बगदादी र.अ. फरमाते हैं – ”मोमीन (ईमानवाला) वही है कि जो बात अपने लिए पसंद करे वो दूसरों के लिए भी पसंद करे।”

बात ये है कि जब कोई मोमीन अपने नफ्स (इन्‍द्रीयों) और दिल की कैद से आजाद हो जाता है तो सारी दुनिया को एक समझने लगता है।

एक मरतबा हजरत शिबली रहमतुल्‍लाह अलैह कहीं तशरीफ फरमां (बैठे) थे। किसी चरवाहे ने गाय की पीठ पर लकड़ी मारी, इससे हजरत बेचैन हो गये। चरवाहे ने कहा क्‍या बात है मैंने आपको तो नहीं मारा। हजरत ने अपनी पीठ खोलकर दिखाई तो पीठ पर लाठी के निशान मौजूद थे।

Sārī duniyā ēka barābara (rūhē tasavvupha)
Ḵẖvājā bandānavāza ġēsūdarāza rahamatullāha alaiha nē pharamāyā-

Hajarata junaida bagadādī ra.A. Pharamātē haiṁ – ”mōmīna (īmānavālā) vahī hai ki jō bāta apanē li’ē pasanda karē vō dūsarōṁ kē li’ē bhī pasanda karē.”

Bāta yē hai ki jaba kō’ī mōmīna apanē naphsa (indrīyōṁ) aura dila kī kaida sē ājāda hō jātā hai tō sārī duniyā kō ēka samajhanē lagatā hai.

Ēka maratabā hajarata śibalī rahamatullāha alaiha kahīṁ taśarīpha pharamāṁ (baiṭhē) thē. Kisī caravāhē nē gāya kī pīṭha para lakaṛī mārī, isasē hajarata bēcaina hō gayē. Caravāhē nē kahā kyā bāta hai mainnē āpakō tō nahīṁ mārā. Hajarata nē apanī pīṭha khōlakara dikhā’ī tō pīṭha para lāṭhī kē niśāna maujūda thē.

आमाल ही काम आएंगे Aamal hi Kaam Aayenge

Sufi Saint Amal Amaal Karm Paap Punya Rooh e Tasawwuf Khwaja Bandanawaz Gesudaraj Gulbarga

आमाल ही काम आएंगे (रूहे तसव्‍वुफ)

ख्‍़वाजा बन्‍दानवाज़ ग़ेसूदराज़ रहमतुल्‍लाह अलैह ने फरमाया-

हजरत ख्‍वाजा हसन बसरी रअ रात को काबा में इबादत कर रहे थे। तभी काबा के कोठी के उपर किसी आदमी के रोने की आवाज आई। आपने सोचा इतनी रात को काबा की छत पर कौन हो सकता है। आप उपर जाकर देखते हैं कि एक आदमी अल्‍लाह की बारगाह में गिड़गिड़ा रहा है और रो रो कर कह रहा है कि या अल्‍लाह तू जानता है कि मुझे दोज़ख़ (नरक) में जलाया जाएगा या नहीं, मुझे मेरे गुनाहों की सजा दी जाएगी या नहीं। ये सब देखकर हजरत ने सोचा कि कोई बहुत गुनाहगार आदमी है अल्‍लाह के हुजूर में फरियाद कर रहा है, इस वक्‍त इसके पास जाना ठीक नहीं।

बड़ी देर के बाद जब वो आदमी नीचे उतरा तो आप उसके सामने गए। हजरत ख्‍वाजा हसन बसरी रअ देख कर हैरान हो जाते हैं कि वो आदमी, हजरत इमाम हुसैन अलैहिस्‍सलाम थे। हजरत हसन बसरी रअ फौरन इमाम हुसैन अलै के कदमों पर गिर पड़े और कहा- ऐ नवासा ए रसूल (हजरत मुहम्‍मद सल्‍ल के नवासे)! आपको खुदा ने इतना इल्‍म (ज्ञान) और बुजुर्गी दी है जो बयान नहीं किया जा सकता, और ये छोड़ भी दिया जाए तो क्‍या हजरत फातिमा रजि. काफी नहीं, क्‍या हजरत अली रजि. काफी नहीं, क्‍या हजरत मुहम्‍मद सल्‍ल. काफी नहीं। ये सुनकर हजरत इमाम हुसैन रजि. की आंखों में आंसू आ जाते हैं आप फरमाते हैं- जिस रोज नानाजान (हजरत मुहम्‍मद सल्‍ल.) पर कुरआन की ये आयत उतरी-

وَأَنذِرْ عَشِيرَتَكَ ٱلْأَقْرَبِينَ [कुरआन २६:२१४]

(और ऐ मुहम्‍मद आप अपने करीबी रिश्‍तेदारों को अजाब से डराइये।)

तो नानाजान ने अम्‍मीजान (हजरत फातिमा रजि.) को हिलाकर फरमाया-

”ऐ फातिमा, रसूलल्‍लाह की बेटी, अपने नफ्स को आग से बचा, खुदा के यहां मैं तेरे काम न आउंगा।”

ये सीख मेरे लिए भी है बाप की रियासत पर मगरूर न हो जाना। जब हजरत मोहम्‍मद सल्‍ल. का होना फातिमा रजि. के लिए काफी नहीं तो मेरे लिए कैसे काफी हो सकता है। कयामत के दिन हमारे आमाल (पुण्‍य) ही काम आएंगे।

Āmāla hī kāma ā’ēṅgē (rūhē tasavvupha) Ḵẖvājā bandānavāza ġēsūdarāza rahamatullāha alaiha nē pharamāyā-

Hajarata khvājā hasana basarī ra’a rāta kō kābā mēṁ ibādata kara rahē thē. Tabhī kābā kē kōṭhī kē upara kisī ādamī kē rōnē kī āvāja ā’ī. Āpanē sōcā itanī rāta kō kābā kī chata para kauna hō sakatā hai. Āpa upara jākara dēkhatē haiṁ ki ēka ādamī allāha kī bāragāha mēṁ giṛagiṛā rahā hai aura rō rō kara kaha rahā hai ki yā allāha tū jānatā hai ki mujhē dōzaḵẖa (naraka) mēṁ jalāyā jā’ēgā yā nahīṁ, mujhē mērē gunāhōṁ kī sajā dī jā’ēgī yā nahīṁ. Yē saba dēkhakara hajarata nē sōcā ki kō’ī bahuta gunāhagāra ādamī hai allāha kē hujūra mēṁ phariyāda kara rahā hai, isa vakta isakē pāsa jānā ṭhīka nahīṁ. Baṛī dēra kē bāda jaba vō ādamī nīcē utarā tō āpa usakē sāmanē ga’ē. Hajarata khvājā hasana basarī ra’a dēkha kara hairāna hō jātē haiṁ ki vō ādamī, hajarata imāma husaina alaihis’salāma thē. Hajarata hasana basarī ra’a phaurana imāma husaina alai kē kadamōṁ para gira paṛē aura kahā- ai navāsā ē rasūla (hajarata muham’mada salla kē navāsē)! Āpakō khudā nē itanā ilma (jñāna) aura bujurgī dī hai jō bayāna nahīṁ kiyā jā sakatā, aura yē chōṛa bhī diyā jā’ē tō kyā hajarata phātimā raji. Kāphī nahīṁ, kyā hajarata alī raji. Kāphī nahīṁ, kyā hajarata muham’mada salla. Kāphī nahīṁ. Yē sunakara hajarata imāma husaina raji. Kī āṅkhōṁ mēṁ ānsū ā jātē haiṁ āpa pharamātē haiṁ- jisa rōja nānājāna (hajarata muham’mada salla.) Para kura’āna kī yē āyata utarī-

Wāảndẖir̊ ʿasẖīrataka ٱl̊ạảq̊rabīna [kura’āna 26:214]
(Aura ai muham’mada āpa apanē karībī riśtēdārōṁ kō ajāba sē ḍarā’iyē.)

Tō nānājāna nē am’mījāna (hajarata phātimā raji.) Kō hilākara pharamāyā- ”Ai phātimā, rasūlallāha kī bēṭī, apanē naphsa kō āga sē bacā, khudā kē yahāṁ maiṁ tērē kāma na ā’uṅgā.” Yē sīkha mērē li’ē bhī hai bāpa kī riyāsata para magarūra na hō jānā. Jaba hajarata mōham’mada salla. Kā hōnā phātimā raji. Kē li’ē kāphī nahīṁ tō mērē li’ē kaisē kāphī hō sakatā hai. Kayāmata kē dina hamārē āmāla (puṇya) hī kāma ā’ēṅgē.

बैअत होना (मुरीद होना) Bait Hona

बैत होना (मुरीद होना)

सूफिया किराम के यहां ये सब से अहम तरीन रूक्न है, जिसके जरिये तालिम व तरबियत, रशदो हिदायत और इस्लाह अहवाल का काम शुरू होता है।
बैअत-ए-शैख अल्लाह के हुक्म से और हुजूरे अकरम हजरत मुहम्मद सल्लल्लाहो अलैहे वसल्लम के अमल से साबित है। अल्लाह कुरआन में फरमाता है कि बेशक जो तुम्हारे हाथों में बैअत करते हैं हकीकतन वो अल्लाह के हाथों पर बैअत करते हैं, अल्लाह का हाथ उनके हाथों पर है। बैअत का अमल हुजूर सल्ल. के अमल “बैअत-अर-रिजवान” से बतरिकए ऊला साबित है। कुछ अहले ईल्म में नजदीक बैअत वाजिब है और कुछ ने बैअत को सुन्नत कहा है। बल्कि एक गिरोह कसीरा ने इसे सुन्नत ही कहा है।
बैअत की कई किस्में होती है- जैसे बैअत-ए-इस्लाम, बैअत-ए-खिलाफत, बैअत-ए-हिजरत, बैअत-ए-जिहाद, बैअत-ए-तकवा वगैरह। लेकिन तजकिया-ए-नफ्स और तसफिया-ए-बातिन के लिए जो सूफिया किराम बैअत करते हैं वो कुरबे इलाही का जरिया बनते हैं और तसव्वुफ में इसी बैअत को “बैअत-ए-शैख” कहते हैं।
जब कोई बैअत व इरादत का चाहने वाला हाजिर होता है और इजहारे गुलामी व बन्दगी के लिए हल्कए मुरीदैन में शामिल होना चाहता है तो उसको का हाथ अपने हाथ में लेकर हल्कए इरादत और तरीकए गुलामी में दाखिल किया जाता है।
फिर तालीब से पुछते हैं कि वो किस खानवाद ए मारफत (कादिरिया, चिश्तिया, अबुलउलाई वगैरह) में बैअत कर रहा है और उससे सुनते है वो किस खानवाद ए तरीकत में दाखिल हुआ। शिजर ए मारफत के सरखेल का नाम लेते हुए सिलसिला ब सिलसिला अपने पीर के जरिए अपने तक पहुंचाते हैं और कहते हैं कि क्या तू इस फकीर को कुबूल किया? तालिब कहता है कि दिलो जान से मैंने कुबूल किया, इस इकरार के बाद उसे तालिमन कहते हैं कि हलाल को हलाल जानना और हराम को हराम समझना और शरीअते मुहम्मदी सल्ल. पर कदम जमाए रखना। (फिलहम्दोअलिल्लामह अला जुल्क )
अकाबिरों के नजदीक वसीला से तवस्स‍ले मुर्शिद ही है। हज़रत मौलाना शाह अब्दुर्रहीम, शाह वलीउल्लाह मुहद्दीस और शाह अब्दुल अजीज मुहद्दीस देहलवी साहेबान का भी यही मानना है। यहां तक कि वहाबियों के सरगना इस्माइल देहलवी का भी ये कहना है कि- ‘कुरआन में सूरे बनी इसराइल के रूकूअ 6 में रब तआला ने शख्स अकरब अलीउल्लाइह के लिए वसीला ही का लफ्ज का इस्तेमाल किया है।’
इसमें कोई शक नहीं है कि अल्लाह की बारगाह के मुकर्रेबीन का वसीला ही वो वसीला है जिसके हासिल करने की हिदायत, अल्लाह तआला ने कुरआन में फरमाई।

33rd URS MUBARAK – Hz Sufi Jalaluddin Qhizr Rumi Shah R.A.

MEHFIL E SIMA 2012

01. Bas Yahi hai Ibadat yahi Bandagi
[Sufiyana Kalam] (Ibrahim Qawwal)

02. Tum Deen Dayal ho Manmohan Ya Khawaja Jalaluddin hassan
[Manqabat] (Ibrahim Qawwal)

03. YE INAYATO MOHABBAT
[Sufiyana Kalam] (Ibrahim Qawwal)


04. CHUMA HAI DAR ARZO SAMA Da Chuma hai Dar Arzo Sama Dama Tui Dama Tui
[Naat by Maulana Jami] (Ibrahim Qawwal)

Read Sufi Stories as a Comics

Sufi Comics is a web comic by brothers Mohammed Ali Vakil & Mohammed Arif Vakil that began in the year 2009. These comics are short stories taken from Islamic history & tradition to illustrate the eternal spiritual truths in the teachings of Islam. The first 40 comics have been published in the form of a book “40 Sufi comics“.

Sufi Comics are short comic strips that illustrate the eternal spiritual truths in the teachings of Islam. These comics were published on the Arif & Ali’s Blog over the last two years. 40 Sufi Comics is a collection of these comics in the form of a book. Along side each comic are verses from the Holy Quran & Traditions from the Prophet & the Ahlul Bayt, related to the topic of the comic. Some of the titles included in the book:

* The Truth about Lies
* Mother
* Where does Wisdom come from?
* Where is God’s Treasure?
* No Problem!
* How far is Heaven?
* A Visit to Hell
* Can I see God?
and more…

READ ONLINE

Source: suficomics

Subscribe via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Cart

Contact us...

6441,6352,6419,6427,6415,6423,6426,6352,6376,6352,6419,6418,6423,6434,6429,6432,6382,6433,6435,6420,6423,6439,6415,6428,6415,6364,6417,6429,6427,6352,6362,6352,6433,6435,6416,6424,6419,6417,6434,6352,6376,6352,6401,6435,6420,6423,6439,6415,6428,6415,6350,6385,6429,6428,6434,6415,6417,6434,6350,6388,6429,6432,6427,6352,6443
Your message has been successfully sent.
Oops! Something went wrong.

Contact Info

Near Dargah, Kelabadi, Durg (Chhattisgarh) 491001

+91 8878 335522
editor@sufiyana.com

Copyright 2018 SUFIYANA ©  All Rights Reserved

error: Content is protected !!