maulana-rumi

Masnavi Daftar 1

بشنو از نے چون حکایت می کند
از جدایی ها شکایت می کند

बाँसुरी से सुन! क्या बयान करती है
दर्द वजदाई की (क्या) शिकायत करती है

کز نیستان تا مرا ببریده اند
از نفیرم مرد و زن نالیده اند

कि जब से मुझे हँसली से काटा है
मेरे नाला से मर्द-ओ-औरत सब रोते हैं

سینه خواهم شرحه شرحه از فراق
تا بگویم شرحِ درد اشتیاق

मैं ऐसा सीना चाहता हूँ जो जुदाई से पारापारा होता
कि मैं इश्‍क़ के दर्द की तफ़सील सुनाऊँ

هر کسی کو دور ماند از اصلِ خویش
بازجوید روزگار وصلِ خویش

जो अपनी असल से दूर हो जाता है
वो अपने वस्ल का ज़माना तलाश करता है

من به هر جمعیتی نالاں شدم
جفت خوشحالان وبدحالاں شدم

मैं हर मजमा में रोई ख़ुश औक़ात
और बदअहवां लोगों के साथ रही

هر کسی از ظنِ خود شد یارِمن
از دورنِ من نجست اسرارِ من

हर शहस अपने ख़्याल के मुताबिक़ मेरा यार बना
और मेरे अंदर से मेरे राज़ों की जुस्तजू ना गई

سر من از ناله ی من دور نیست
لیک چشم و گوش را آں نور نیست

मेरा राज़ मेरे नाला से दूर नहीं है
लेकिन आँख और कान के लिए वो नूर नहीं है

تن ز جان و جاں ز تن مستور نیست
لیک کس را دید جاں دستور نیست

बदन रूह से और रूह बदन से छिपी हुई नहीं है
लेकिन किसी के लिए रूह को देखने का दस्तूर नहीं है

آتش است این بانگِ نائے و نیست باد
هر که این آتش ندارد نیست باد

बाँसुरी की ये आवाज़ आग है हवा नहीं है
जिसमें ये आग नहू वो नेस्त-ओ-नाबूद हो

آتش عشقست کاندرِ نے فتاد
جوشش عشق است کاندر می فتاد

इश्‍क़ की आग है जो बाँसुरी में लगी है
इश्‍क़ का जोश है जो शराब में आया है

نے حریفِ هر که از یارے بُرید
پرده هایش پرده هائے ما درید

बाँसुरी उस के साथ है जो यार से कटा हो
उस के रागों मैंने हमारे पर्दे फाड़ दिए

همچو نے زهرے و تریاقے که دید؟
همچو نی دمساز و مشتاقے که دید؟

बाँसुरी जैसा ज़हर और तिरयाक़ किस ने देखा है?
बाँसुरी जैसा साथी और आशिक़ किस ने देखा है?

نے حدیث راهِ پرخوں می کند
قصه های عشقِِ مجنوں می کند

बाँसुरी ख़तरनाक रास्ता की बात करती है
मजनून के इश्‍क़ क़िस्सा बयान करती है

محرم این هوش جز بیهوش نیست
مر زبان را مشتری جز گوش نیست

इस होश का राज़दां बेहोश के इलावा कोई और नहीं है
ज़बान का ख़रीदार कान जैसा कोई नहीं है

در غم ماروزها بیگاه شد
روزها با سوزها همراه شد

हमारे ग़म में बहुत से दिन ज़ाया हुए
बहुत से दिन सोज़िशों के साथ ख़त्म हुए

روزها گر رفت گو رو باک نیست
تو بماں ای آنکه چون تو پاک نیست

दिन अगर गुज़रीं तो कहदो-ओ-गुज़रीं पर्दा नहीं है
ऐ वो के तुझ जैसा कोई पाक नहीं है तो रहे!

هرکه جز ماهی ز آبش سیر شد
هرکه بی روزیست روزش دیر شد

जो मछली के इलावा है इस के पानी से सैर हुआ
जो बे रोज़ी है इस वक़्त ज़ाया हुआ

درنیابد حال پخته هیچ خام
پس سخن کوتاه باید والسلام

कोई नाक़िस कामिल का हाल नहीं मालूम कर सकता
पस बात मुख़्तसर चाहीए वस्सलाम

بند بگسل باش آزاد ای پسر
چند باشی بند سیم و بند زر

ऐ बेटा ! क़ैद को तोड़ आज़ाद हो जा
सोने चांदी का क़ैदी कब तक रहेगा

گر بریزی بحر را در کوزه‌ای
چند گنجد قسمت یک روزه‌ای

अगर को दरिया को एक प्याले में डाले
कितना आएगा एक दिन का हिस्सा

کوزه چشم حریصان پر نشد
تا صدف قانع نشد پر در نشد

हरीज़ों की आँख का पियाला ना भरा
जब तक सीप ने क़नाअत ना की हुई से ना भरा

هر که را جامه ز عشقے چاک شد
او ز حرص و عیب کُلی پاک شد

जिसका जामा इश्‍क़ की वजह से चाक हुआ
वो हरज़ और ऐब से बिलकुल पाक हुआ

شاد باش ای عشقِ خوش سودائے ما
ای طبیب جمله علتهائے ما

ख़ुश रह हमारे अच्छे जुनून वाले इश्‍क़
ऐ हमारी तमाम बीमारीयों के तबीब

ای دوائے نخوت و ناموس ما
ای تو افلاطون و جالینوس ما

ऐ हमारे तकब्बुर और झूटी ग़ैरत के ईलाज,
ऐ हमारे अफ़लातून और जालीनूस, तो सदा ख़ुश रहे

جسم خاک از عشق بر افلاک شد
کوه در رقص آمد و چالاک شد

ख़ाकी जिस्म इश्क़ की वजह से आसमानों पर पहुंचा
पहाड़ नाचने लगा और होशार हो गया

عشق جان طور آمد عاشقا
طور مست و خر موسی صعقا

ऐ आशिक़! इश्‍क़ तूर की जान बना
तूर मस्त बना और मूसा बेहोश हो कर गिरे

با لب دمساز خود گر جفتمے
همچو نی من گفتنیها گفتمے

अगर में अपने यार के होंट से मिला हुआ होता
बाँसुरी की तरह कहने की बातें कहता

هر که او از هم زبانی شد جدا
بی زبان شد گرچه دارد صد نوا

जो शख्‍़स दोस्त से जुदा हुआ
बेसहारा बना ख्‍़वाह सौ सहारे रखे

چونکه گل رفت و گلستاں درگذشت
نشنوی زان پس ز بلبل سر گذشت

जब फूल ख़त्म हुआ और बाग़ जाता रहा
उस के बाद तो बुलबल की सरगुज़श्त ना सुनेगा

جمله معشوقست و عاشق پردۃ
زنده معشوقست و عاشق مردۃ

तमाम कायनात माशूक़ है और आशिक़ पर्दा है
माशूक़ ज़िंदा है और आशिक़ मुर्दा है

چون نباشد عشق را پروائے او
او چو مرغے ماند بی پروائے او

जब इश्‍क़ को इस से पर्दा ना हो
वो बे पर के परिंद की तरह है इस पर अफ़सोस है

من چگونه هوش دارم پیش و پس
چون نباشد نورِ یارم ہم نفس

मैं क्या कहूं कि मैं आए पीछे का होश रखता हो
जब मेरे दोस्त का नूर का साथी ना हो

عشق خواهد کین سخن بیرون بود
آینہ ات غماز نبود چون بود

इश्‍क़ चाहता है कि ये बात ज़ाहिर हो
तेरा आईना ग़म्माज़ ना हो तो क्यूँ-कर हो

آئینات دانی چرا غمازِ نیست
زانکه زنگار از رخش ممتازِ نیست

तो जानता है तेरा आईना ग़म्माज़ क्यों नहीं है?
इस लिए कि ज़ंग उस के चेहरे से अलैहदा नहीं है

Sufiyana 140

लिबास

ऐ इन्सान! हमने तुम्हें ऐसा लिबास दिया है जिससे तुम खुद को ढको और खुबसूरत दिखो। (लेकिन इसके साथ ही तुम्हें छुपा हुआ लिबास भी दिया है और वही) तक़वा (परहेज़गारी) का लिबास ही बेहतर है।…

(क़ुरान 7:26)

 

अक्सर हम किसी इन्सान को उसके हुलिए उसके लिबास से पहनावे से पहचानते हैं और ये सोचते हैं कि वो वैसा ही होगा। हम पहले से तय कर लेते हैं कि फटे कपड़े पहना होगा तो ग़रीब होगा, अच्छे कपड़े पहना होगा तो अमीर होगा, धोती पहना होगा तो पंडित होगा, सर में साफ़ा पहना होगा तो मौलाना होगा, सफेद कुर्ता पायजामा पहना होगा तो नेता होगा वगैरह वगैरह।

आप भी इससे बच नहीं सकते, आपको भी कोई आपके लिबास की वजह से पहचानता होगा, तो क्या वो आपके बारे में अच्छी तरह जान पाएगा, क्या वो जान पाएगा कि आपमें क्या खूबियां हैं और क्या बुराईयां हैं। हो सकता है इसी वजह से आप अपने बाप दादाओं की तरह कपड़े पहनना छोड़ दिए हों। अपने बुजूगों के पहनावे को सिर्फ इसलिए छोड़ देना कि ‘लोग क्या कहेंगे?’, बहुत बड़ी नादानी और शर्म की बात है। इन्सान की पहचान उसके दिल से, उसके अख्लाक़ व किरदार से होती है।

मिस्र में एक सूफ़ी हज़रत ज़ुन्नुन मिस्री रज़ी. रहते थे। एक नौजवान ने उनसे पूछा, मुझे समझ में नहीं आता कि आप लोग सिर्फ एक चोगा ही क्यों पहने रहते हैं? बदलते वक्त क़े साथ यह ज़रूरी है कि लोग ऐसे लिबास पहने जिनसे उनकी शख्सियत सबसे अलग दिखे और देखने वाले वाहवाही करें। ज़ुन्नुन मुस्कुराए और अपनी उंगली से एक अंगूठी निकालकर बोले, ‘बेटे, मैं तुम्हारे सवाल का जवाब ज़रूर दूंगा लेकिन पहले तुम इस अंगूठी को सामने बाज़ार में एक अशर्फी में बेच आओ’। नौजवान ने ज़ुन्नुन की साधारण सी दिखने वाली अंगूठी को देखकर कहा ‘इसके लिए सोने की एक अशर्फी तो क्या कोई चांदी का एक सिक्का भी न दे’।

‘कोशिश करके देखो, शायद तुम्हें वाकई कोई ख़रीदार मिल जाए’ ज़ुन्नुन ने कहा। नौजवान तुरंत ही बाज़ार को रवाना हो गया। उसने वह अंगूठी बहुत से सौदागरों, परचूनियों, साहूकारों, यहां तक कि हज्जाम और क़साई को भी दिखाई पर उनमें से कोई भी उस अंगूठी के लिए एक अशर्फी देने को तैयार नहीं हुआ। थक हार कर वो वापस आया और कहा, ‘कोई भी इसके लिए चांदी के एक सिक्के से ज्यादा देने के लिए तैयार नहीं है’।

ज़ुन्नुन मुस्कुराए और कहा, ‘अब तुम इस सड़क के पीछे सुनार की दुकान पर जाकर उसे यह अंगूठी दिखाओ। लेकिन तुम उसे अपना मोल मत बताना, बस यही देखना कि वह इसकी क्या क़ीमत लगाता है’। नौजवान बताई गयी दुकान तक गया और वहां से लौटते वक्त उसके चेहरे से कुछ और ही बयान हो रहा था। उसने ज़ुन्नुन से कहा, आप सही थे। बाज़ार में किसी को भी इस अंगूठी की सही क़ीमत का अंदाजा नहीं है। सुनार ने इस अंगूठी के लिए सोने की एक हज़ार अशर्फियों की पेशकश की है। यह तो आपकी मांगी क़ीमत से भी हज़ार गुना है।

ज़ुन्नुन ने मुस्कुराते हुए कहा, ‘और वही तुम्हारे सवाल का जवाब है। किसी भी इन्सान की क़ीमत उसके लिबास से नहीं आंको, नहीं तो तुम बाज़ार के उन सौदागरों की मानिंद बेशक़ीमती नगीनों से हाथ धो बैठोगे। अगर तुम उस सुनार की आंखों से चीज़ों को परखोगे तो तुम्हें मिट्टी और पत्थरों में भी सोना और जवाहरात दिखाई देंगे। इसके लिए तुम्हें दुनियावी नज़र पर पर्दा डालना होगा और दिल की निगाह से देखने की कोशिश करनी होगी। बाहरी दिखावे से हट कर देखो, तुम्हें हर तरफ हीरे-मोती ही नज़र आएंगे’।

chattisharif-KhwajaGharibNawaz

सूफी किसे कहते हैं? Sufi Kise Kehte Hain?

  • सूफी वो हैं जो अल्‍लाह को पाने के लिए धर्म की वास्‍तविकता यानि मुहब्‍बत पर ध्‍यान केन्द्रित किया उस सीधे रास्‍ते को अपनाया जो सीधे अल्‍लाह से जा मिलता है।
  • अपनी बातें अपने किरदार (व्‍यक्तित्‍व), अख्‍लाक व अमल और मोहब्‍बत से समझाई।
  • दुनिया की चाहत को अपने पास भी भटकने नहीं दिया, बल्कि दुनियादारी से बचना जरूरी समझा।
  • शरीअत के हुक्‍म की पैरवी के साथ साथ उसकी हिफाजत भी कुबूल की।
  • जाहिरी व बातिनी से बुराई, बेइमानी व धोखे को निकाल फेंका और अंदर व बाहर से एक जैसा होना उनकी निशानी बन गई है।
  • अपनी इबादत (पूजा) को जन्‍नत (स्‍वर्ग) के लालच और दोजख (नर्क) के खौफ (डर) से आजाद किया।
  • इन्‍सानों की भलाई व खिदमत की, ये नहीं देखा कि सामने इन्‍सान का रंग क्‍या है, नस्‍ल क्‍या है, कौम-मजहब क्‍या है, मुल्‍क व वतन क्‍या है?
  • हिन्‍दू हो या मुस्लिम हो या सिख हो या ईसाई, इनकी बारगाह से कोई मायूस व नामुराद नहीं लौटाया।
  • जूद व सखा (दान पुण्‍य) उनकी आदत होती है।

 

Sufi kisē kahatē haiṁ?

  • Sufi wo hain jō allāha kō pānē kē li’ē dharma kī vāstavikatā yāni muhabbata para dhyāna kēndrita kiyā usa sīdhē rāstē kō apanāyā jō sīdhē allāha sē jā milatā hai.
  • Apanī bātēṁ apanē kiradāra (vyaktitva), akhlāka va amala aura mōhabbata sē samajhā’ī.
  • Duniyā kī cāhata kō apanē pāsa bhī bhaṭakanē nahīṁ diyā, balki duniyādārī sē bacanā jarūrī samajhā.
    Śarī’ata kē hukma kī pairavī kē sātha sātha usakī hiphājata bhī kubūla kī.
  • Jāhirī va bātinī sē burā’ī, bē’imānī va dhōkhē kō nikāla phēṅkā aura andara va bāhara sē ēka jaisā hōnā unakī niśānī bana ga’ī hai.
  • Apanī ibādata (pūjā) kō jannata (svarga) kē lālaca aura dōjakha (narka) kē khaupha (ḍara) sē ājāda kiyā.
  • Insānōṁ kī bhalā’ī va khidamata kī, yē nahīṁ dēkhā ki sāmanē insāna kā raṅga kyā hai, nasla kyā hai, kauma-majahaba kyā hai, mulka va vatana kyā hai?
  • Hindū hō yā muslima hō yā sikha hō yā īsā’ī, inakī bāragāha sē kō’ī māyūsa va nāmurāda nahīṁ lauṭāyā. Jūda va sakhā (dāna puṇya) unakī ādata hōtī hai.

Contact us...

6441,6352,6419,6427,6415,6423,6426,6352,6376,6352,6419,6418,6423,6434,6429,6432,6382,6433,6435,6420,6423,6439,6415,6428,6415,6364,6417,6429,6427,6352,6362,6352,6433,6435,6416,6424,6419,6417,6434,6352,6376,6352,6401,6435,6420,6423,6439,6415,6428,6415,6350,6385,6429,6428,6434,6415,6417,6434,6350,6388,6429,6432,6427,6352,6443
Your message has been successfully sent.
Oops! Something went wrong.

Contact Info

Near Dargah, Kelabadi, Durg (Chhattisgarh) 491001

+91 8878 335522
editor@sufiyana.com

Copyright 2018 SUFIYANA ©  All Rights Reserved