Sufiyana 232

तालीमाते आला हज़रतؓ

हज़रत अहमद रज़ा खां फ़ाजि़ल बरेलवीؓ, जिन्हें हम ‘आला हज़रत’ के नाम से जानते हैं, वो हस्ती हैं, जिन्होंने शरीअते मुहम्मदीﷺ को नज्द के फ़साद से महफूज़ किया और दीन की तारीख़ में नई इबारत लिखी। इसी वजह से आपको तमाम अहले सुन्नत बगैर किसी शक व शुब्ह के ‘मुजद्दीद ए वक़्त’ तस्लीम करती है। आज शरीअ़त का नाम आते ही आपका जि़क्र होने लगता है, तो क्यूं न हम भी इस बाब में आपके मल्फ़ूज़ात व तालीमात से फ़ैज़ हासिल करें।

वाह क्या जूदो करम है, शहे बतहा तेरा।
नहीं, सुनता ही नहीं, मांगने वाला तेरा।

मैं तो मालिक ही कहूंगा, के हो मालिक के हबीब।
यानी महबूब व मोहिब में नहीं मेरा तेरा।
तेरे क़दमों में जो हैं, ग़ैर का मुंह क्या देखें।
कौन नज़रों पे चढ़े, देख के तलवा तेरा।
तेरे टुकड़ों से पले, ग़ैर की ठोकर पे न डाल।
झिड़कियां खाएं कहां, छोड़ के सदक़ा तेरा।
तुझ से दर, दर से सग और सग से है मुझको निसबत।
मेरे गरदन में भी है, दूर का डोरा तेरा।
इस निशानी के जो सग हैं, नहीं मारे जाते।
हश्र तक मेरे गले में रहे पट्टा तेरा।
तेरी सरकार में लाता है ‘रज़ा’ उसको शफ़ीक़।
जो मेरा ग़ौस है और लाडला बेटा तेरा।

हयाते फ़ाज़‍िल बरेलवी (मुख्‍़तसर)

फाजि़ल बरेलवी मौलाना अहमद रज़ा खानؓ नसबन पठान, मसलकन हनफ़ी और मशरबन क़ादरी थे। वालिद माजिद मौलाना नक़ी अली खानؓ (1297हि./1880) और जद्दे अमजद मौलाना रज़ा अली खानؓ (1282हि./1865) आलिम और साहिबे तसनीफ़ बुजुर्ग थे। फाजि़ल बरेलवी की विलादत 10 शव्वाल 1272 हि. मुताबिक 14 जून 1856 को बरेली (यूपी) में हुई। नाम ‘मुहम्मद’ रखा गया और तारीखी नाम ‘अलमुख़्तार’ (1272हि.) तजवीज़ किया गया जद्दे अमजद ने ‘रज़ा’ नाम रखा। बाद में आपने खुद अपने नाम में ‘अब्दुल मुस्तफ़ा’ का इज़ाफ़ा किया।
आप बुलन्द पाया शायर भी थे और ‘रज़ा’ तख़ल्लुस लिखते थे। लोग ‘आला हज़रत’ और ‘फ़ाजि़ल बरेलवी’ के नाम से आपको याद करते हैं। आप बहुत से इल्म व फ़नों में माहिर थे।
कुरान, हदीस, उसूले हदीस, फि़क़्ह, जुमला मज़ाहिब, उसूले फि़क़्ह, तफ़सीर, अक़ाएद, कलाम, नहू, सफ़र्, मआनी, बयान, बदीअ, मनतक़, मुनाज़रा, फ़लसफ़ा, हयात, हिसाब, हिनदसा वगैरह का इल्म अपने वालिद मोहतरम से हासिल किये।
हज़रत शाह आले रसूलؓ, शेख अहमद मक्कीؓ, शेख अब्दुल रहमान मक्कीؓ, शेख हसीन बिन सालेह मक्कीؓ, शेख अबुल हसन नूरीؓ जैसे आलिमों से कि़रात, तजवीद, तसव्वफु़, सुलूक, अख़लाक़, असमा उर रिजाल, तारीख, नअत, अदब का इल्म हासिल किए।
इसके अलावा खुद के मुताला व बशीरत से अरसमा तयकी, जबर व मुकाबला, हिसाब सैनी, तौकीत, मन्ज़र व मराया, जफ़र, नज़्म व नस्र फारसी, नज़्म व नस्र हिन्दी, खते नस्ख, खते नस्तलीक़ वगैरह का इल्म हासिल किया।
आप हज़रत शाह आले रसूलؓ मारहरा से मुरीद हुए। आपको क़ादरी, चिश्ती, नक्शबंदी, सोहरवर्दी, अलविया सिलसिले में खिलाफ़त थी।

मुफ़्तीए आज़म हिन्दؓ के सवाल और आला हज़रतؓ के जवाब

अर्ज़: मुफ़्ती ए आज़म हिन्दؓ फ़रमाते हैं. आला हज़रतؓ की खि़दमत में, मैं और मौलवी अब्दुल अलीम साहब हाजि़र थे। मौलवी साहब ने आपसे अज़्र किया. हज़रत मुहम्मदﷺ से पहले क्या चीज़ पैदा फ़रमाई गई?
इरशाद: हदीस मुबारक है. ऐ जाबिर बेशक अल्लाह ने तमाम चीज़ों से पहले तेरे नबी का नूर अपने नूर से पैदा फ़रमाया। फिर रब ने चार दिन में आसमान और दो दिन में ज़मीन पैदा फ़रमाया।

अर्ज़: इल्मे बातिन का अदना दर्जा क्या है?
इरशाद: हज़रत जुन्नुन मिस्रीؓ फ़रमाते हैं. मैं एक बार सफ़र किया और वो इल्म लाया जिसे खास व आम सभी ने कुबूल किया। दोबारा सफ़र किया और वो ईल्म लाया जिसे खास ने तो कुबूल किया लेकिन आम ने नहीं किया। तीसरी बार सफ़र किया और वो इल्म लाया जिसे न खास ने कुबूल किया न आम लोगों ने।
यहां सफ़र का मतलब दिल का सफ़र है।

‘अक़्ल वाले ही नसीहत समझते हैं’  (कुरान 3:7)

अदना दर्जे का इल्म बातिन ये है कि आलिमों से तस्दीक़ करे और आलिम से मुहब्बत रखे।

अर्ज़: क्या वाज़ (तक़रीर) का ईल्म होना ज़रूरी है?
इरशाद: जो आलिम नहीं उसे वाज़ करना हराम है।

अर्ज़: आलिम की क्या तारीफ़ है?
इरशाद: आलिम की तारीफ़ यह है कि अक़ीदे पूरे तौर पर आगाह हो और मुस्तिक़ल (अटल) हो और अपनी ज़रूरियात को बगैर किसी की मदद से किताब से निकाल सके।

अर्ज़: क्या मुजाहिदे में उम्र की क़ैद है?
इरशाद: मुजाहिदे के लिए कम अज़ कम अस्सी बरस दरकार होते हैं। बाक़ी तलब ज़रूर की जाए।

अर्ज़: एक शख़्स अस्सी बरस की उम्र से मुजाहिदात करे या अस्सी बरस मुजाहिदा करे।
इरशाद: आम तौर पर अगर रब की इनायत न हो तो इस राह की फ़तह में अस्सी बरस लग जाते हैं। लेकिन रब की रज़ा हो तो अदना भी लम्हेभर में अब्दाल कर दिया जाता है। अल्लाह फ़रमाता है: ‘वह जो हमारी राह में मुजाहिदा करे, हम ज़रूर उन्हें अपने रास्ते दिखा देंगें’।

अर्ज़: क्या दुनियावी ख्वाहिशात वाला दिल, ख़ुदा व उसके रसूलﷺ के जि़क्र में डुबे हुए दिल पर कुछ असर करता है?
इरशाद: हां करता है।

अर्ज़: रुकूअ व सज्दे में कितनी देर ठहरना चाहिए?
इरशाद: रुकूअ व सज्दे में एक बार ‘सुब्हानल्लाह’ कहने तक रुकना फ़ज़्र है। इससे कम रुकने पर नमाज़ न होगी।

आला हज़रतؓ का जवाब

दोबारा बैअत होना कैसा है?

बिला वजह बैअत तब्दील करना शरई तौर पर मना है। लेकिन फ़ैज़ उठाना जायज़ है, बल्कि मुबाह है। एक बार तीन कलंदर हज़रत निज़ामुद्दीन औलियाؓ की खि़दमत में हाजि़र हुए और खाना मांगा। जब खाना पेश किया गया तो उन्होंने फेंक दिया। कहा. खाना अच्छा नहीं है, दूसरा लाओ। फिर लाया गया तो फिर फेंक दिया। जब तीसरी बार भी ऐसा किया, तो महबूबे ईलाही हज़रत निज़ामुद्दीनؓ ने उन्हें पास बुलाकर कान में कहा. ये खाना तो उस मुरदार से बेहतर था, जो तुमने रास्ते में खाया था। हज़रत के इस ग़ैब के इल्म को देखकर कलंदर कदमों पर गिर पड़े। हज़रत ने उन्हें उठाया और अपने सीने से लगाकर रुहानी गि़ज़ा अता की। उसके बाद कलंदर वज्द में रक़्स करने लगे और ये कहने लगे कि मेरे हुज़ूर ने मुझे नेअमत अता फ़रमाई। वहां हाजि़र लोगों ने कहा. कैसे बेवकफू लोग हो, तुम्हें तुम्हारे पीर ने नहीं बल्कि हमारे पीर ने नेअमत अता की है। इस कलंदर ने कहा. बेवकफू तुम हो, अगर मेरे पीर की नज़रे इनायत नहीं होती तो तुम्हारे पीर से मुझे कुछ नहीं मिलता। ये मेरे पीर का ही सदक़ा है कि तुम्हारे पीर से मुझे फ़ैज़ हासिल हुआ। ये सुनकर हज़रत निज़ामुद्दीन औलिया महबूबे ईलाहीؓ फ़रमाते हैं. ये बिल्कुल सच कह रहा है। मुरीदी सीखना है तो इससे सीखो।

Sufiyana 139

पाकी (स्‍वच्‍छता)

‘उसमें वो लोग हैं जो खूब पाक होना चाहते हैं और पाक (साफ सूथरे) लोग अल्लाह को प्यारे हैं।’

(क़ुरान 9:108)

‘अल्लाह नहीं चाहता कि तुम पर कुछ तंगी रखे, हां ये चाहता है कि तुम्हें साफ सूथरा (पाक) कर दे।’

(क़ुरान 5:6)

‘पाकीज़गी आधा ईमान है।’

(तिरमिज़ी 3530)

‘दीन की बुनियाद पाकीज़गी पर है।’

(अश-शिफा 1:61, इहयाउल उलूम 396)

 

पाकी के मायने हैं- खुद को बुराईयों और गंदगी से पाक रखना। पाकी दो तरह की होती है- एक ज़ाहिरी और दूसरा बातिनी। दोनों पाकी ज़रूरी है। बातिनी यानी दिल की पाकी भी और ज़ाहिरी यानी जिस्म की पाकी भी। किसी भी तरह की इबादत व अमल के लिए जिस्म का पाक होना ज़रूरी होता है। साथ जगह और कपड़े भी पाक हो।

गुस्ल

पाकी हासिल करने के लिए गुस्ल करना पड़ता है। गुस्ल करना और सिर्फ नहाने में फ़र्क होता है। गुस्ल करने का ये तरीक़ा है-

  • गुस्ल करने की नियत करें
  • गंदगी से तमाम जिस्म को पाक कर लें
  • वजू करें
  • कुल्ली करें व अच्छी तरह मुंह साफ करें
  • नाक में पानी डालें
  • पूरे बदन में तीन बार पानी बहाएं, इस तरह कि कोई हिस्सा बाकी न रहे
  • साफ व पाक कपड़े पहनें।

वजू

गुस्ल करने से पाक तो हो जाते हैं, लेकिन किसी भी इबादत व अमल के लिए या क़ुरान की तिलावत के लिए या मज़ार में हाजिरी के लिए या पीर की सोहबत के लिए सिर्फ पाक होना काफ़ी नहीं है। इसके लिए वजू करना भी ज़रूरी है। बल्कि कोशिश करें कि हमेशा ही वजू से रहें। वजू का ये तरीक़ा है-

 

  • ख़ुदा की खुशनूदी व आखिरत के अजर के साथ वजू की नीयत करें
  • बिस्मिल्लाह पढ़ कर गट्टो सहित हाथ धोएं
  • तीन बार कुल्ली करके मुंह साफ करें, (ज़रूरत पड़े तो मिसवाक करें)
  • तीन बार नाक में पानी डालें
  • तीन बार पूरा चेहरा अच्छी तरह धोएं (दाढ़ी में खिलाल करें)
  • तीन बार हाथों कोहनी समेत अच्छी तरह धोएं (उंगलियों में खिलाल करें)
  • पूरे सर का और गर्दन व कान का मसा करें
  • पैर के पंजों को टखनों समेत अच्छी तरह धोएं

गुस्ल नहीं रहता

कुछ बातों से गुस्ल नहीं रहता (टूट जाता है)। जैसे- जिस्म में सिक्के के बराबर गंदगी (नजासत) लगने, मनी निकलने, शहवत/सोहबत, हैज व निफास वगैरह से।

वजू नहीं रहता

कुछ बातों से वजू नहीं रहता (टूट जाता है) और फिर से वजू बनाना ज़रूरी हो जाता है। वो बातें जिससे गुस्ल टूट जाता है, उससे वजू भी टूट जाता है।

कुछ बातें ऐसी हैं जिससे वजू तो टूट जाता है लेकिन गुस्ल नहीं टूटता। जैसे- हवा खारिज होने से, पेशाब या गंदे पानी के छिंटे से, खून या मवाद निकलने से, उल्टी होने से, चीत या पट लेटने से, नशा चढ़ने से, बेहोश होने से वगैरह वगैरह।

वजू पर वजू करना अच्छी बात है। नए काम के लिए फिर से ताजा वजू करना अच्छा है।

Subscribe via Email

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Cart

Contact us...

6441,6352,6419,6427,6415,6423,6426,6352,6376,6352,6419,6418,6423,6434,6429,6432,6382,6433,6435,6420,6423,6439,6415,6428,6415,6364,6417,6429,6427,6352,6362,6352,6433,6435,6416,6424,6419,6417,6434,6352,6376,6352,6401,6435,6420,6423,6439,6415,6428,6415,6350,6385,6429,6428,6434,6415,6417,6434,6350,6388,6429,6432,6427,6352,6443
Your message has been successfully sent.
Oops! Something went wrong.

Contact Info

Near Dargah, Kelabadi, Durg (Chhattisgarh) 491001

+91 8878 335522
editor@sufiyana.com

Copyright 2018 SUFIYANA ©  All Rights Reserved

error: Content is protected !!